Moina Teaching us concept of Dissolved Oxygen (DO) and Biological Oxygen Demand (BOD)

Screenshot_20220513-002552_WhatsApp

:sparkles::sparkles: Isn’t it interesting how Culturing of Moina is related to concepts like Dissolved Oxygen(DO) and Biological Oxygen Demand (BOD)
These topics are taught in school and Colleges but without any context which leads to rattafication for marks and confusion for free!:sweat_smile::joy:

:sparkles::sparkles: Discussion started with how a Crustacean i.e. Moina ( Model for genetics and molecular biology) regulates it’s genes to produce Hemoglobin in low Dissolved oxygen condition in water.
:dizzy: When we culture it we add 1 drop of milk in 250ml DC water so that bacteria will grow with the help of milk nutrients and moina will eat bacteria and grow. But when we add 6 drops within 4 days the moina starts to turn red. This is because more milk will give rise to more bacteria which will consume more Oxygen and Dissolved O2 level drops in water.
But here not only DO level decreased but also the BOD increases.

क्या यह दिलचस्प नहीं है कि मोइना की खेती कैसे घुलित ऑक्सीजन (डीओ) और जैविक ऑक्सीजन मांग (बीओडी) जैसी अवधारणाओं से संबंधित है
इन विषयों को स्कूल और कॉलेजों में पढ़ाया जाता है, लेकिन बिना किसी संदर्भ के जो अंकों के लिए अनुसमर्थन और मुफ्त में भ्रम की स्थिति पैदा करता है!:sweat_smile::joy:

चर्चा शुरू हुई कि कैसे एक क्रस्टेशियन यानी मोइना (मॉडल फॉर जेनेटिक्स एंड मॉलिक्यूलर बायोलॉजी) पानी में कम घुलित ऑक्सीजन की स्थिति में हीमोग्लोबिन का उत्पादन करने के लिए अपने जीन को नियंत्रित करता है।
जब हम इसे कल्चर करते हैं तो हम 250 एमएल डीसी पानी में 1 बूंद दूध डालते हैं ताकि दूध पोषक तत्वों की मदद से बैक्टीरिया बढ़े और मोइना बैक्टीरिया को खाकर विकसित हो जाए। लेकिन जब हम 4 दिन में 6 बूंद डालते हैं तो मोइना लाल होने लगता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि अधिक दूध अधिक बैक्टीरिया को जन्म देगा जो अधिक ऑक्सीजन की खपत करेगा और पानी में घुले हुए O2 स्तर की बूंदों का सेवन करेगा।
लेकिन यहां न सिर्फ डीओ लेवल कम होता है बल्कि बीओडी भी बढ़ता है।

Screenshot_20220513-002623_WhatsApp
:sparkles: Now BOD is Oxygen required for oxydizing the Organic Matter in the water. So more the water is polluted more will be the BOD and visa-versa
:dizzy:Now Theertha from Kozhikode, Kerala Saida from Mumbai and Chitralekha ma’am from Delhi discussed about how water hyacinth(aquatic plant) decrease the DO in water.
Eichhornia_crassipes_(or_Pontederia_crassipes)_-_Family_Pontederiaceae

:dizzy: 1) Water hyacinth has it’s leaf and flowers above the water surface and as they grow the cover the water surface totally and interrupts in diffusion of oxygen from air into water.
2) Dead leafs, stem and other organic matter in water degrades by bacteria with the help if oxygen so the oxygen in water is utilised and it decreases.
3) Algae, phytoplankton etc that produce O2 will die because no sunlight is recieved by them because of water hyacinth blocking it.
:sparkles::sparkles:As a result of all of this the Dissolved Oxygen (DO) decreases and Biological Oxygen Demand (BOD) increases.

Till here we discussed let’s continue…

अब BOD पानी में कार्बनिक पदार्थ के ऑक्सीकरण के लिए आवश्यक ऑक्सीजन है। तो जितना अधिक पानी प्रदूषित होगा उतना ही BOD और जितना काम प्रदूषण होगा उतना काम BOD होगा।
अब कोझिकोड,केरल से तीर्थ, मुंबई से सैदा और दिल्ली से चित्रलेखा मैम ने चर्चा की कि कैसे जलकुंभी (जलीय पौधा) पानी में DO को कम करता है।

  1. जलकुंभी के पत्ते और फूल पानी की सतह के ऊपर होते हैं और जैसे-जैसे वे बढ़ते हैं, पानी की सतह पूरी तरह से ढक जाती है और हवा से पानी में ऑक्सीजन के प्रसार में बाधा उत्पन्न होती है।
  2. पानी में मृत पत्तियाँ, तना और अन्य कार्बनिक पदार्थ जीवाणुओं द्वारा ऑक्सीजन की सहायता से अपघटित होते हैं इसलिए पानी में ऑक्सीजन का उपयोग किया जाता है और यह घुलित ऑक्सीज कम हो जाता है।
  3. शैवाल, फाइटोप्लांकटन आदि जो O2 उदपथ करते है, मर जाते हैं क्योंकि जलकुंभी इसे अवरुद्ध करने के कारण उनके द्वारा कोई धूप प्राप्त नहीं की जाती है।

इन सबके परिणामस्वरूप घुलित ऑक्सीजन (डीओ) घट जाती है और जैविक ऑक्सीजन की मांग (बीओडी) बढ़ जाती है।

यहां तक ​​हमने चर्चा की चलो जारी रखें …

2 Likes